Friday, August 31, 2012

मुझे चुना एक अनोखी शख्सियत के रुप में( स्टार प्लस तथा हिंदुस्तान की अनोखी पेशकश)


कितना अच्छा लग रहा है आज मै बता नही सकती। सम्मान किसी भी रूप में हो उसे पाकर इंसान खुद को महत्वपूर्ण समझने लगता है। यह एक ऎसा सच है जिसे नकारा नही जा सकता। लखनऊ से सम्मान पाकर आते ही मुझे  अनोखी क्लब में पैनलिस्ट के रूप में चुना गया।
ये प्रोग्राम स्टार प्लस के सौजन्य से हिंदुस्तान के द्वारा आयोजित था। पैनल पर होना मेरे लिये सौभाग्य की बात थी। सबसे खूबसूरत लम्हा था जब मैने इस प्रोग्राम का आगाज़ किया। सामने उपस्थित तमाम महिलाओं को आवाज़ दी की वे आगें बढ़े। जीवन को यूंही बर्बाद न होनें दे। अपनी शक्तियों को समझें और कुछ ऎसा करें जो आप को साबित कर पायें, मैने उन्हें समझाया कोई भी काम छोटा-बड़ा नही होता। मैने अपने सपनों को कैसे पंख लगाये और साकार किया। अगर इंसान के पास हौसला है, कुछ कर गुजरने का जज़बा है, तो कोई भी मुश्किल आ नही सकती। वहाँ उपस्थित तमाम महिलायें मुझसे पूछ रही थी ढेरों सवाल और उन सवाल के जवाब देते हुए मै भी खुद को मज़बूत कर रही थी, कि मै किस प्रकार इन सबकी समस्याओं को हल कर सकूं क्या कहूं की इनमें भी मै खुद को देख सकूँ।
मैने उन्हें कहा कि वो ज़माना चला गया जब कहा जाता था "अबला जीवन हाय तुम्हारी यही कहानी आँचल मे है दूध और आँखों मे पानी" मेरी सखियों तुम चाहो तो मिसाल बन सकती हो एक नई जागृति ला सकती हो। मैने उन्हे समझाया कि कैसे मैने कम समय में कम साधनों मे कामयाबी हासिल की।
जहाँ तक मुझे लगता है मै उनके दिल तल पहुंच पाई हूँ। उनमे से अनेक सखियों ने मेरे पर्सनल फ़ोन नम्बर भी लिये ताकि वो बिजिनेस कैसे करें समझ सकें।
प्रोग्राम के अंत में साड़ी कॉम्पिटिशन भी हुआ और बहुत मुश्किल था मेरे लिये इतने लोगों मे से एक खूबसूरत साड़ी पहने महिला का चुनाव। लेकिन फिर भी सर्वसम्मति से ये सौभाग्य एक को मिला भी। हाँ थोड़ा सा अटपटा सा अवश्य लगा लेकिन सभी सखियां बहुत खुश थी अवार्ड पाकर। खेल ही खेल में समय पंख लगा उड़ गया और मै बटोर लाई न जाने कितनी सखियों का प्यार। शब्दों में बयां करना सचमुच बहुत मुश्किल है मेरे लिये। इस कार्य का भार हिंदुस्तान से शुभा को दिया गया गया था जिसने इतनी मुस्तैदी से सारा कार्यभार सम्भाला जिसकी जितनी तारीफ़ की जाये कम है। आज की नौजवान पीढ़ी इतनी जिम्मेदार और विनम्र होती है आज देखा भी। सर्वेश जो हिंदुस्तान में सीनियर फ़ोटोग्राफ़र है उनसे भी दोस्ती अच्छी हो गई उनकी लाजवाब फ़ोटोग्राफ़ी के बारे में तो ब्लॉग जगत में सभी जानते हैं।
अंत में मेरा मेरी तमाम सखियों से अनुरोध है कि वे भी आगे आयें। अपने आप को साबित करें जिससे वो तमाम सखियां भी आपको देखकर कुछ सीख सकें।
सुनीता शानू

106 comments:

  1. बधाई हो ...बहुत बहुत बधाई ...ऐसे ही आगे बढती जाएं

    ReplyDelete
  2. बधाइयाँ दीदी ... मेरी मिठाई ???

    ReplyDelete
    Replies
    1. कभी ये लगता है अब ख़त्म हो गया सब कुछ - ब्लॉग बुलेटिन ब्लॉग जगत मे क्या चल रहा है उस को ब्लॉग जगत की पोस्टों के माध्यम से ही आप तक हम पहुँचते है ... आज आपकी यह पोस्ट भी इस प्रयास मे हमारा साथ दे रही है ... आपको सादर आभार !

      Delete
    2. बहुत अच्छा लगा शिवम:) मिठाई जब मिलेंगे जरूर खिलायेंगे। तब तक चॉकलेट से काम चला लेना।

      Delete
  3. bahut bahut badhaai dear sunita ...yun hi aage badti raho .love u ...:)

    ReplyDelete
  4. हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  5. थैंक्स फेसबुक यह पोस्ट दिख गयी -वो कहते हैं न वोमैन आफ सबस्टेंस तो आप पर ही पूर्णतया चरितार्थ होता है -पूरी तरह सेल्फ मेड ..सहज विनम्र मगर दृढ भी .....हैट्स आफ ....आपसे लखनऊ में मिलकर गौरव की अनुभूति हुई! टेलीकास्ट होने की सूचना भी दीजियेगा कृपया !
    यह देखें- http://swsg.org/be-a-woman-of-substance/

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपसे मिलकर बहुत अच्छा लगा। यदि पुरूषों का चुनाव होता तो पक्का आप और पाबला जी चुने जाते अनोखे शख्सियत वाले:) एक बार फिर धन्यवाद आपका।

      Delete
  6. बहुत बहुत बधाई...आपके विचारों से अन्य महिलाएँ जरूर लाभान्वित हुई होंगी.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया रश्मि जी कोशिश तो यही होती है कुछ लोगों को लाभ हो बाकि वक्त बतायेगा हम कुछ कर भी पाये हैं या नहीं।

      Delete
  7. हार्दिक दिल से बधाई आपको @सुनीता जी
    विश्वास है आप यूँ ही हमेशा सफलता कि बुलंदियों को छुए...

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया नीलकमल जी।

      Delete
  8. आपको हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें..

    (पिंकी शाह)

    ReplyDelete
  9. Aapko hardik shubhkamnayen!!...Eshwar aapko nit nayi unchayiyan pradan kare...!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आमीन। दीपक जी आपकी दुआयें कबूल हो जाये बस और क्या चाहिये:) शुक्रिया बहुत-बहुत।

      Delete
  10. बहुत बहुत हार्दिक बधाई सुनीता जी आपसे लखनऊ में मिलकर बहुत अच्छा लौटते हुए आने की जल्दी थी इसलिए प्रोग्राम के बाद गप शप करने का वक़्त नहीं मिला मेरे ब्लॉग पर लखनऊ के उस महत्वपूर्ण दिवस का वर्णन पढने आइये आपका स्वागत है |

    ReplyDelete
    Replies
    1. राजेश कुमारी जी आप मेरी ही लाइन में बैठीं थी। आपसे मिलकर सचमुच बहुत अच्छा लगा। आपका नम्बर नही ले पाई। अफ़सोस है अन्यथा बात भी हो पाती। आपका बहुत-बहुत शुक्रिया।

      Delete
  11. बधाइयाँ. चाहिए हमें मिठाइयाँ.
    घुघूतीबासूती

    ReplyDelete
    Replies
    1. ज्यादा मिठाई ठीक नही घुघूति जी:)

      Delete
  12. Replies
    1. बहुत-बहुत शुक्रिया रश्मि जी:)

      Delete
  13. देर से लेकिन, ज्यादा वाली बधाई :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. अभी तक आपसे मिल नही पाई नोयडा कई बार आई हूँ जल्द ही मिठाई खिलाती हूँ हर्ष भाई:)

      Delete
  14. Replies
    1. शुक्रिया महेंद्र जी।

      Delete
  15. मधुरम, बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  16. .बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद महेश्वरी जी।

      Delete
  17. बधाईयाँ बधाईयाँ बधाईयाँ

    ReplyDelete
  18. Replies
    1. धन्यवाद यौगेंद्र जी।

      Delete
  19. बहुत बहुत बधाई.....

    ReplyDelete
  20. बहुत - बहुत बधाई आपको

    ReplyDelete
  21. ख़ाकसार की ओर से भी बधाई ।

    ReplyDelete
  22. bahut bahut badhai...........

    ReplyDelete
  23. बहुत बहुत बधाई ....अनोखी पोस्ट :):)

    ReplyDelete
    Replies
    1. अनोखी:) सब आपका आशीर्वाद है और कुछ नही:)

      Delete
  24. बहुत -बहुत बधाई ।

    ReplyDelete
  25. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  26. जानकर अच्छा लगा।
    मुबारक हो।

    बड़े ब्लॉगर्स के ब्लॉग पर बहती मुख्यधारा पर विस्तृत कमेंट देने के लिए शुक्रिया।

    ReplyDelete
  27. bahut bahut badhai suneeta ji,{geeta purohit }

    ReplyDelete
  28. आप हो ही भीड़ से अलग अगर आपको ये सम्मान मिला तो कोई बड़ी बात नहीं है किसी ने अहसान नहीं किया ...आप सहज रूप से इस की अधिकारिणी हो जहाँ तक मैंने आपके व्यक्तित्व को कुलजमा दो मुलाकातों में समझा है !
    आपको पूरे मन से बधाई !

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया आनन्द जी आपने इतना सम्मान दिया। सचमुच आपसे मिलकर बहुत अच्छा लगा।

      Delete
  29. अरे वाह.... बहुत बढ़िया!!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  30. Aapki is uplabdhi se hum Gauravanvit hain.....Ishwar aapko aur bhi oonchaiyan de jeevan path par....

    ReplyDelete
  31. हार्दिक बधाइयाँ व शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  32. Replies
    1. शुक्रिया मोनिका जी।

      Delete
  33. मिठाइयाँ हमें भी खानी है
    आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 05/09/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. अरे वाह। जरूर आप मिठाई खायेंगी मिलिये तो सही:)

      Delete
  34. Congratulations sunita ! dheron badhaiyan!u hi aage badhati jao

    ReplyDelete
  35. BAHUT - BAHUT BADHAAI AUR SHUBHKAAMNAAYEN :))

    ReplyDelete

  36. बहुत हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  37. chaay kee chuskiyon ke saath haardik methee meethee badhaayee,miltaa hai kabhee to sammaan .jeevan mein ,jo milnaa chaahiye

    ReplyDelete
  38. बहुत-बहुत बधाई! शुभकामनायें।

    ReplyDelete

आपके सुझावों के लिये आपका स्वागत है