Friday, April 12, 2013

आओ मोटे लोगों आदोंलन करें... मोटापा ज़िंदाबाद

आज नवभारत में
 


पिछले दिनों एक खबर सुनने में आई कि समोआ एयरलाइंस मोटे लोगों से दोगुना किराया वसूलती है। यह कंपनी अमेरिकी समोआ द्वीप के लिए हवाई सेवा उपलब्ध कराती है। उसमें यात्रा के लिए एक किलो ग्राम वजन के लिए एक से 4.16 डॉलर तक अतिरिक्त खर्च करना पड़ता है। इस यात्रा के दौरान यात्री के सामान और उसके अपने वजन में कोई फर्क नहीं किया जाता। तो क्या मोटे लोगों का वजन उठाते-उठाते रिक्शे वालों की तरह हवाई जहाज वाले भी उकता गए हैं? हद हो गई भैया। मोटे बेचारे हर जगह लूटे जा रहे हैं। एक तो मोटापे की वजह से खाना ज्यादा पड़ता है। कपड़ा ज्यादा लगता है। दूसरे इस महंगाई ने जान निकाल कर रख दी है। जो लोग चार लोगों का अकेले खाते हैं, उन पर तो कहर टूट पड़ा है।
अब पार्टियां या शादियां रोज-रोज तो होती नहीं जो काम चल सके। महाकाय शरीर छुपाये छुपता भी नहीं है। मेजबान संदेह की दृष्टि से देखता है कि यह दूसरी प्लेट खा रहा है या चौथी? मोटे लोगों के खिलाफ हर जगह साजिश हो रही है। ब्रिटेन के एक ट्रस्ट ने तो मोटापा कम करने पर इनाम की घोषणा कर दी। लेकिन बात यहीं तक नहीं रही। अब ब्रिटेन ने एक और योजना बना डाली है जिसके मुताबिक मोटे लोगों के अंतिम संस्कार के लिए 40 पाउंड का अतिरिक्त कर देना पड़ेगा। क्या इससे मोटापा कम हो जाएगा? ये तो भैया और भी जटिल समस्या हो गई कि बेचारे मोटे लोग जीते जी ही जेब ढीली नहीं करें वरन मरते-मरते घरवालों की जेब से वसूली भी करवा के जाएं।
अमेरिका की भारोत्तोलक हॉली मैनगोल्ड को इस बात पर गहरी आपत्ति है कि मीडिया और जनता उन्हें मोटी कहती है जबकि वो एक अच्छी एथलीट हैं। अब वजन का कांटा उनके चढ़ते ही 150 को पार कर जाए तो उनका क्या कसूर? उन्हें तो अपने मोटापे पर गर्व है। वह इस बात को गलत बताती हैं कि खेलकूद के लिए छरहरी काया होनी चाहिए। बिल्कुल ठीक कहती हैं वह। शरीर क्या होता है, जज्बा होना चाहिए।
वैसे अमिताभ बच्चन जी ने गाया भी है कि जिसकी बीवी मोटी उसका भी बड़ा नाम है। पर लगता है कि यह गाना समोआ एयरलाइंस ने नहीं सुना। उन्होंने शायद वह हरियाणवी गीत सुन लिया होगा-जिसकी बीवी मोटी उसकी आफत होरी सै दरवाजे में फंस गई तो खिचम खाची होरी सै। इसलिए हवाई जहाज वालों ने क्लीयर बोल दिया है, भैया कि एयरलाइनें सीटों पर नहीं चलती हैं, वे वजन पर चलती हैं। जैसे हम अतिरिक्त वजन नहीं चढ़ाते वैसे ही भारी यात्रियों को नहीं चढ़ाएंगे या उनसे ज्यादा वसूलेंगे। लो जी कर लो बात, आदमी न हुआ सब्जी-भाजी, सूटकेस हो गया। यह तो मनुष्यता का अपमान है। उसकी स्वतंत्रता पर रोक है कि भैया यह मत खाओ, यह मत पीओ। इतना मत सोओ। फिर इस जिंदगी का मतलब क्या रह जाएगा। ऐसा सोचने वाले क्या चाहते हैं कि कोई चैन भर नींद भी न ले? आखिर नींद और आलस्य भी तो प्रकृति की ही देन है। और चटोरापन भी तो प्रकृति ने ही दिया है न।
अब जल्दी ही स्लिम बनाने के लिए नई - नई तिकड़में शुरू हो जाएंगी। कोई स्लिम टी पिएगा , तो कोई कैप्सूल खाएगा कि जल्दी से जल्दी पतला हो जाऊं। इंग्लैंड में वैज्ञानिकों ने एक ' बुद्धिमान ' इलेक्ट्रॉनिक माइक्रोचिप बनाया है जिससे मोटापा घटाया जा सकेगा। अब यह प्रकृति के काम में हस्तक्षेप तो नहीं तो और क्या है। लेकिन मोटे लोगों की ओर से अभी तक इसका कोई विरोध नहीं हो रहा है। समझ में नहीं आता कि उनमें इतनी हीन भावना क्यों है। वे क्यों नहीं पूरे आत्मविश्वास के साथ संगठित होते हैं ? उन्हें भी ग्रीन पार्टी की तर्ज पर ओबेस पार्टी या किसी और नाम से पार्टी बना ही लेनी चाहिए। एक बार वे संगठित हो जाएं तो फिर किसी भी देश की सरकार या कंपनी की मजाल नहीं कि वह कोई मोटापा विरोधी कदम उठा सके।




20 comments:

  1. हाहाहहाहाह... आंदोलन में यूं ही शामिल हुआ जा सकता है ना..
    ऐसा तो नहीं कि पहले चयन के लिए तस्वीर भेजना हो।

    बढिया, मजा आ गया

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया महेंद्र जी आंदोलन में शामिल होने के लिये स्वागत है आपका :)

      Delete
  2. रोचक प्रस्तुति आभार नवसंवत्सर की बहुत बहुत शुभकामनायें नरेन्द्र से नारीन्द्र तक .महिला ब्लोगर्स के लिए एक नयी सौगात आज ही जुड़ें WOMAN ABOUT MANजाने संविधान में कैसे है संपत्ति का अधिकार-1

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया शालिनी जी...

      Delete
  3. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार (13 -4-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया वंदना जी :)

      Delete
  4. हाय हाय तो मुटल्ले भी बगावत पर उतर आए अब तो सुकडों पतलों की खैर नहीं ।
    सुनीता दी आपने सभी मोटियाती आत्माओं का आह्वान इत्ते कमाल रूप में किया है कि हमें पूरा यकीन हो चला है कि ये आंदोलन मोटा हो जाएगा जरूर :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. ह्ह्ह अजय तुम भी आ जाओ इस आंदोलन में 18 मई कॉन्स्टीट्यूशन हॉल में रखा गया है मन पखेरु के विमोचन पर :)

      Delete
  5. Replies
    1. मोटापा ज़िंदाबाद :)

      Delete
  6. सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति . हार्दिक आभार नवसंवत्सर की बहुत बहुत शुभकामनायें हम हिंदी चिट्ठाकार हैं

    BHARTIY NARI
    PLEASE VISIT .

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया शिखा जी

      Delete
  7. सुन्दर व् रोचक प्रस्तुति! नवसंवत्सर की बहुत बहुत शुभकामनायें!
    Please visit-
    http://voice-brijesh.blogspot.com

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद बृजेश जी...

      Delete
  8. नवभारत टाइम्स में आपका यह लेख पढ़ चुकी हूँ ..... अब तो आंदोलन से जुडने का वक़्त है :):)

    ReplyDelete
    Replies
    1. आईये आईये कब से इंतजार है आपका :)

      Delete
  9. यह लेख हम मोटों के खालिफ साजिश है , पतलों का कोई राईट नहीं कि वे मोटों पर लेख लिखें :)
    अगर पवन भाई मोटे होते तो क्या यह लेख लिख पातीं ??
    कल से आपके दरवाजे पर भूख हड़ताल करेंगे !
    :(


    ReplyDelete
    Replies
    1. अरे सतीश भाई पवन जी कौन से पतले हैं और मै कौनसी मोटी नही हूँ... आप आम खाईये न काहे गुठलियाँ गिन रहे हैं। हद हो गई आजकल शराफ़त का जमाना ही नही। नवरात्र के व्रत कर रखे होंगे कह रहे हैं भूख हड़ताल करेंगें...

      Delete
  10. सही पूछिए तो मोटापा खुद अपने आप में ही घातक रोग है... अगर संभव हो...तो इसे कम करने का प्रयत्न तो करना ही चाहिए....
    ~सादर!!

    ReplyDelete

आपके सुझावों के लिये आपका स्वागत है