Friday, September 5, 2008

गुनाहगारों की रिएलिटी एक व्यंग्य...

हिंदी मीडिया पर प्रकाशित

बिग बॉस बड़ा अच्छा शो है, एक साथ इतने सारे अजनबी लोगो का साथ-साथ परिवार की तरह रहना, वाह मज़ा आ गया! श्रीमान जी चहक कर बोले

अजनबी!! सबको तो जानते हो, नया कौन है भला ? ये अहसान कुरैशी कितनी बार कविता सुना-सुना कर हँसाता रहा है सबको। और रेवती बहन आ रा रा रा इसे नही पहचानते, सास भी कभी बहू में थी न, और ये राहुल महाजन जाने कब तक इस पर मुकदमा चलता रहा और टी वी पर दिखाते रहें हैं, मोनिका बेदी भी चेहरा छुपा-छुपा टीवी पर रोती रही है, श्रीमती जी ने अचूक बाण फ़ेंका।

हाँ-हाँ ठीक है बाबा! परन्तु अलग-अलग जगहों से आये लोगों को अजनबी ही तो कहेंगें, इसमें कुछ गलत नही है, तुम्हे तो बेकार कमी निकालने की आदत है,इनमें से कोई सेलिब्रिटी तुम्हें मिल जाता न तो तुम झट सारी बातें भूल कर कह रही होती ऑटोग्राफ़ प्लीज, काश मै भी जा पाता, इस रियलिटी शो में।

हुँह मै सबकी तरह मूर्ख नही हूँ और रियलिटी शो किसे कह रहे है आप? कोरी बकवास है यह, पर्दे पर और वह भी जब इंसान को पता है कि उसे कैमरे से देखा जा रहा है, उसकी हर गति-विधि पर पूरी नजर रखी जा रही है,क्या वह अपनी असली जिन्दगी जी पायेगा, क्या सचमुच इसे रियलिटी शो कहा जायेगा? श्रीमती जी तैश में आ गई।

और नही तो क्या पुलिस भी तो पूरी मुस्तैदी से बिग बॉस पर नजरे गढ़ाए हुए है, मोनिका बेदी और राहुल महाजन की सारी गतिबिधि देख रही है पुलिस। क्या पता कोई सुराग हाथ लग जाये।वाह रे मेरे देश की भोली-भाली पुलिस, अभी देखना मोनिका बेदी डॉन के बारे में सब कुछ बता ही देगी, और हाँ राहुल महाजन भी शायद अपने गुनाह यहीं कबूल करेगा। आप भी न कितने भोले हैं, जानते नही टी वी के पर्दे पर सब नाटक है सच्चाई नही। कह कर श्रीमती जी ने टी वी बंद कर दिया गया।

अरे! ,मुझे तो देखने दो! तुम्हे पसंद नही तो मत देखना। मुझे तो अच्छा लग रहा है, कैसे एक साथ रहेंगे सबके सब, कम से कम यह बात एकता की भावना ही पैदा करती है। तुम तो एकता कपूर के नाटक देख-देख कर नारी सशक्तीकरण के उपाय ढूँढती रहती हो बस, श्रीमान जी गुस्से मे झल्लाए।

तो क्या हुआ, आप क्या बच पायेंगे एकताजी से, एकता कपूर अपने भाई तुषार कपूर के साथ आ रही है बिग बॉस में,अब नया फ़ंडा होने वाला है, चलो अच्छा है एकता जी की लाईफ़ की रियलिटी भी पता चल जायेगी, कैसे वो इतने सारे सीरियल एक साथ बना पाती हैं,अच्छा सुनो ! मोनिका बेदी की शक्ल देख कर तो बहुत मासूम नजर आती है, मुझे तो इस बेचारी पर तरस आता है, शायद यह सच ही कह रही है, इसको पता नही होगा कि जिससे यह प्यार करती है, वह अंडरवर्ड का सरगना है। सुना है डॉन मोनिका को टीवी पर देख कर और बेचैन हो गया है, अब तो कुछ न कुछ जरूर पुलिस के हाथ लग ही जायेगा, कहकर श्रीमान जी मुस्कुराये।

बस ! यही एक कसर बाकी थी, अब इस एक टीवी शो को देख कर आपने कह दिया की मोनिका अपराधी नही हालात की शिकार होगी, थोड़ी देर में कहोगे की राहुल महाजन भी बेगुनाह है, क्या अब सजा-याफ़्ता मुजरिम भी वी आई पी कहे जायेंगे? अगर आधी से ज्यादा जनता यही सोचने लगी तो जानते हैं क्या होगा, टी वी सीरियल ही अदालत का रूप इख्तियार कर लेंगें, और पुलिस अपराधी को पकड़ने के लिये सब काम-धाम छोड़ टीवी पर नजरे गढ़ाए बैठी रहेगी, और अपराधी मज़े से चैनल की शोभा बढ़ा रहे होंगें।

11 comments:

  1. it is nice satire .
    ur r absolutly right on tht particular episode.


    Rakesh Kaushik

    ReplyDelete
  2. मनुष्यों को कुत्ते बिल्लीओं कि तरह लड़ते देखने का क्या मजा़ है..

    ReplyDelete
  3. नमूने इकठा इसलिए किए है की कुछ कुछ न तोड़ फोड़ हो....बस काम कम दे रहे है अगर काम करवाए तो ओर frustation हो....

    ReplyDelete
  4. बिग बॉस शो, यह भी एक पश्चिम की एक गन्दगी हे, हमारे यहां(युरोप) तो यह शो फ़ेल हो गया, लेकिन हम युरोपियन से कम थोडे ही हे, इन की नकल तो जरुर करेगे,बिग बांस यहां रात को १० बजे के बाद रात को चलता था इस लिये की इस मे बकबास ओर सेक्स ओर पता नही क्या क्या गन्दगी दिखाते हे.
    आप की पोस्ट बहुत ही अच्छी होती हे,आंखे खोलने वाली, धन्यवाद

    ReplyDelete
  5. सच कहा-एकदम सटीक!!

    ReplyDelete
  6. सुंदर चित्रण बधाई बेहतरीन आलेख के लिए मेरे ब्लॉग पर पधार कर काव्य रस का आनंद ग्रहण करें

    ReplyDelete
  7. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 29 -12 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज... जल कर ढहना कहाँ रुका है ?

    ReplyDelete
  8. वाह वाह संगीता जी.
    सुनीता जी की इतनी पुरानी पोस्ट पर आपने मुझे दियो पहुंचाय
    बिग बॉस की चर्चा कर दी है उन्होंने बहुत ही दिल लगाय
    चाय का मौसम और सुनीता जी बीजी है
    क्यूँ इतना तरसा रहीं हैं कृपया ये तो बताएं.

    वे जहाँ कहीं भी हो मेरी पोस्ट 'हनुमान लीला भाग-२' पर तुरन्त चली आयें.

    जाते जाते मेरी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ वे लेती जाएँ.

    शानू जी, आपकी यह पुरानी पोस्ट भी धांसू है जी.

    ReplyDelete
  9. बहुत ही उम्दा....मेरे ब्लॉग पर भी स्वागत है..http://swativallabharaj.blogspot.com/

    ReplyDelete
  10. वाह ....बहुत खूब

    ReplyDelete

आपके सुझावों के लिये आपका स्वागत है